Sunday, 13 November 2016

kabhikabhi

किसी दर्द की तरह तुम आये थे
किसी दर्द की ही तरह तुम चले गए
ना कभी मैंने चाहा तुम आओ
ना कभी की तुम जाओ।
पर उस वक़्त के दरम्या
एक अहसास का समंदर
भर गया मन में
हिलोरे मारता रहता
       जो कभी कभी.....
            जो कभी कभी...


No comments:

Post a Comment