Wednesday, 15 January 2014

चाह

चाह 

कभी मन ये करता ..... कि सागर से खेलूँ
        कभी ऊंची ऊंची …घटाओं को छू लूं
कभी दिल मचलता पवन को पकड़ लूं
     कभी बरखा रानी की बूंदों को छू लूं
कभी  भाव उठते और आँखें बरसती
    कभी सैकड़ों उलझने आ अटकतीं
कभी मन हो चंचल     कभी ठहरा पानी
कभी प्रेम की सूनी अतृप्त कहानी
      है सारी ये बातें अब मन से मिटानी  
कहीं रेत को भी,,,,, क्या मिलता है पानी ???????

1 comment: