Friday, 29 May 2015

मै कल रात

तुम्हारे ख्यालों का तकिया बना कर सोई
                             मै,      कल रात
तुम्हारे प्यार के आँचल में  फूट फूट रोई
                            मै,      कल रात
तुम्हारे स्नेह की चादर ने
    एक सुकू सा दिया मुझको
प्यार का नरम बिछोना जिसपे तुम और
                             मै,      कल रात
आँखों ही आँखों में बात हुई पूरी
                   बस,     कल रात
कैसा अनूठा बंधन , जिसमे उलझी रही
                मै,       कल रात
मेरे माथे पे तुम्हारे हाथों का स्पर्श , चन्दन सा
                     महका ,            कल रात 

2 comments:

  1. Soo true emotions.... so very touchingg..

    God bless you... :)

    ReplyDelete
  2. Soo true emotions.... so very touchingg..

    God bless you... :)

    ReplyDelete